in

बलरामपुर यूपी: छात्रा के साथ दुष्कर्म कर, तोड पैर और कमर, आरोपी पुलिस गिरफ्त में…

उत्तरप्रदेश में लगातार रेप के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं, यूपी के हाथरस के बाद अब बुलंदशहर में छात्रा के साथ हुआ रेप।फिर हुई मानवता शर्मसार। इलाज के लिए अस्पताल पहुंचने से पहले ही पीड़िता ने दम तोड़ दिया है। जानकारी के मुताबिक आरोपी भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिए हैं।

रेप से पीड़िता के मां ने कहा कि “सुबह उसका अपहरण कर लिया गया था, जब वह कॉलेज में एडमिशन के लिए जा रही थी। जब वह समय पर लौटने में विफल रही, तो परिवार ने महिला की तलाश शुरू की।”

मृतक युवती के परिवार का कहना है कि “वह शाम 7 बजे के आसपास घर लौटी। उसने बताया कि हमलावरों ने उसे कथित तौर पर ई-रिक्शा पर बिठाया और उसे घर भेज दिया। इससे साफ होता है कि दरिंदे किस तरह की दरिदंगी को अंजाम देते हैं और समाज देश की बेटियों को अपनी हवस का शिकार बनाते हैं।

रेप के बाद दम तोड़ देने वाली रेप पीड़िता की मां ने रोते हुए कहा, ‘दरिंदों ने उसे किसी पदार्थ के साथ इंजेक्शन लगाया था, जिसकी वजह से वह होश खो बैठी। फिर उन्होंने उसके साथ बलात्कार किया। उन्होंने उसके पैर और कमर तोड़ दी। एक रिक्शा-वाला उसे घर ले आया और उसे हमारे घर के सामने फेंक दिया गया। मेरी बच्ची मुश्किल से खड़ा हुई।’

छात्रा की मां ने कहा, “किसी तरह, रोते हुए, मेरी बेटी ने कहा, ‘मुझे बचाओ, मैं मरना नहीं चाहती।’ लौटने के बाद उसकी बेटी ने पेट में जलन की शिकायत की। उन्होंने कहा, “स्थानीय अस्पताल में डॉक्टर ने कहा कि उसकी हालत गंभीर है और सलाह दी गई कि उसे लखनऊ ले जाया जाए। लेकिन जब वह बलरामपुर शहर के पास थी तब उसकी मौत हो गई।”

यूपी पुलिस ने उसके शव को उसके रिश्तेदारों को सौंप दिया, जिन्होंने बुधवार को उसका अंतिम संस्कार किया। हालांकि, पुलिस ने कहा कि शव परीक्षण से यह पता नहीं चलता है कि उसके हाथ और पैर टूट गए थे। बलरामपुर पुलिस ने देर रात ट्वीट किया, “उक्त मामले में, दोनों आरोपियों के साथ पुलिस द्वारा त्वरित कार्रवाई की गई है। हाथ और पैर टूटने की खबर सही नहीं है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख नहीं है।”

बलरामपुर पुलिस में से एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने महिला के परिवार का हवाला देते हुए कहा कि उसके हाथ में ग्लूकोज का इंजेक्शन लगाने के निशान थे। अधिकारी देव रंजन वर्मा ने कहा, “उसके हाथों में ग्लूकोज सिरिंज चिपकी हुई थी। वह बहुत बुरी हालत में थी।”

पुलिस के मुताबिक छात्रा के परिवार ने दो व्यक्तियों का नाम लिया है। उन्होंने कहा कि वे उसका इलाज कराने के लिए एक डॉक्टर के पास ले गए और उसके साथ बलात्कार किया। जब उसकी हालत खराब हो गई, तो उन्होंने उसे अस्पताल भेजने के बजाय उसे घर भेज दिया। पुलिस ने तेजी से कार्रवाई की है और उसे गिरफ्तार कर लिया है।

लेकिन सवाल यह है कि हमारे देश में रेप के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं, लोग हैवानियत की हदें पार कर रहे हैं और बारबार मानवता को शर्मसार कर रहे हैं। ये हमारे देश के सिस्टम पर सवाल खड़ा करती हैं । पूरे समाज को शर्मशार करती हैं।

Written by Devraj Dangi

यूपी में रेप हुआ तो प्रियंका – सोनिया आग बबूला, लेकिन कांग्रेस शासित राजस्थान में दलित लड़की के साथ रेप हुए तो मौन ?

बारां में दो नाबालिक बच्चियों से हुए रेप पर सीएम गहलोत का गैर – जिम्मेदाराना शर्मनाक बयान, अब कुछ बोलेगी प्रियंका