in

बारां में दो नाबालिक बच्चियों से हुए रेप पर सीएम गहलोत का गैर – जिम्मेदाराना शर्मनाक बयान, अब कुछ बोलेगी प्रियंका

देश में लगातार बलात्कार की घटनाएं बढ़ती है जा रही हैं, पूरा देश चिंतित है। चाहे यूपी का बलरामपुर, हाथरस, उन्नाव, बुलंदशहर हो या राजस्थान हो अपराध सिर्फ अपराध होता है। लेकिन सियासत अपने हिसाब से और सेलेक्टिव होती है। यही हमारे देश का दुर्भाग्य हैं।

कांग्रेस शासित राजस्थान के बारां से कल 13 और 15 वर्षीय दो नाबालिग लड़कियों के साथ हुए बलात्कार की घटना सामने आई थी। कथिततौर पर लड़कियों को अगवा कर कोटा, जयपुर और अजमेर ले जाया गया और तीन दिनों तक उनके साथ बलात्कार किया गया था। दोनों नाबालिक लड़की ने अपने साथ हुए इस घिनौने अपराध को कैमरे पर भी बताते हुए कहा था कि दो लड़कों द्वारा उनका अपहरण किया गया और नशीली दवाइयाँ देकर तीन दिन तक बलात्कार किया गया।

दोनों रेप पीड़िता बालिकाओं के बयान के बावजूद, राजस्थान के सीएम और कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने ट्विटर पर शर्मनाक बात करते हुए गैर जिम्मेदाराना दावा किया कि नाबालिग लड़कियों के साथ किसी भी प्रकार की ‘जबरदस्ती’ नहीं की गई है।

सीएम गहलोत ने ट्विटर पर दावा किया, “बारां में बालिकाओं ने स्वयं मजिस्ट्रेट के समक्ष दिए 164 के तहत बयानों में अपने साथ ज्यादती नहीं होने एवं स्वयं की मर्जी से लड़कों के साथ घूमने जाने की बात कही। बालिकाओं का मेडिकल भी करवाया गया एवं अनुसन्धान में सामने आया कि लड़के भी नाबालिग हैं, जाँच आगे भी जारी रहेगी।”

मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक, राजस्थान पुलिस ने भी सामूहिक दुष्कर्म के आरोपों से इनकार किया है। कथिततौर पर एक पुलिस वाले ने कहा है कि लड़कियों ने अपने बयान में बलात्कार के आरोप से इनकार किया। हालाँकि, दोनों नाबालिग लड़कियों के परिवार ने आरोप लगाया है कि उन्हें धमकी देकर डराया धमकाया गया था, ताकि वे आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज न करवायें।

दोनों नाबालिग लड़कियों के पिता ने पुलिस को बताया था कि दो नाबालिग आरोपित 18 सितंबर की रात को बहला फुसला कर उनकी बेटियों को भगा ले गए थे। पिता के आरोप के अनुसार, अगवा करने के बाद उन्हें अजमेर, कोटा और जयपुर ले जाकर तीन दिनों तक लगातार उनका बलात्कार किया गया। दोनों लड़कियों को 21 सितंबर को कोटा से बरामद किया गया था। इससे हम समझ सकते हैं कि हमारा यह समाज किस दिशा में जा रहा हैं, यहां पर बेटियां कितनी सुरक्षित है ऐसे दरिंदों के आगे।

ऑपइंडिया के मुताबिक रेप पीड़िता दोनों नाबालिग कैमरे पर नशीला पदार्थ पिलाकर सामूहिक बलात्कार करने की बात स्वीकार की। वहीं इस मामले में पुलिस और सीएम अशोक गहलोत का दावा है कि नाबालिग लड़कियों ने अपने बयान में बलात्कार के आरोपों से इनकार किया। जिससे साफ होता है कि सीएम किस तरह मामले को दबाना चाहते हैं।

सवाल यह भी हैं की आज कांग्रेस नेत्री प्रियंका गांधी यूपी के हाथरस की रेप पीड़िता से मिलने पैदल निकल पड़ी खूब राजनीति हो रही है सरकार पर सवाल उठ रहे । लोकतंत्र में सवाल उठने भी चाहिए लेकिन दिक्कत जब होती हैं जब यह सेलेक्टिव होते हैं। और यही हो रहा है। कांग्रेस के राजस्थान में रेप पर और सीएम के शर्मनाक बयान पर प्रियंका कुछ बोलेगी या नहीं।

Written by Devraj Dangi

बलरामपुर यूपी: छात्रा के साथ दुष्कर्म कर, तोड पैर और कमर, आरोपी पुलिस गिरफ्त में…