in ,

शिया नेता रिजवी ने पीएम को पत्र लिख “द प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट -1991” को समाप्त कर इन 9 मस्जिदों को हिंदुओ को देने की मांग की

देश भर में अयोध्या मंदिर और मस्जिद विवाद का कोर्ट जरिए समाधान होने और 5 अगस्त को पीएम मोदी द्वारा राम मंदिर का भूमिपूजन के बाद से ही काशी और मथुरा का मामला चर्चा का विषय बना हुआ है। वहीं काशी के ज्ञानवापी मस्जिद का मसला कोर्ट में चल रहा था तो मथुरा शाही ईदगाह का मामला भी न्यायालय में पहुंच गया।

हाल ही में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखते हुए ”द प्लेस ऑफ वर्शिप एक्ट 1991” (The Place of Worship Act 1991)को समाप्त करने की मांग की है।
रिजवी ने साथ ही ये भी कहा है कि मुगलों द्वारा कट्टरपंथी मानसिकता के साथ तोड़े गए मंदिरों की जगह बनाए गए मस्जिदों को समाप्त कर पुनः प्राचीन मंदिरों की पूर्व स्तिथि बहाल की जाए। इससे लगता है न्याय विवाद खड़ा हो सकता है।

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी का कहना है कि कांग्रेस ने जानबूझकर “द प्लेसेस ऑफ वर्शीप एक्ट -1991” को उस समय की सत्ताधारी कांग्रेस ने जानबूझकर बनाया था, ताकि देश में मंदिर – मस्जिद का यह विवाद हमेशा चलता रहे। रिजवी के अनुसार इस एक्ट को तुरंत खत्म करने की जरूरत है। जिससे देश में मंदिर – मस्जिद विवाद हमेशा के लिए खत्म हो जाए। रिजवी के अनुसार कांग्रेस ने धार्मिक आंकड़ों के आधार पर इस देश में बड़े लंबे समय तक शासन किया हैं।

पीएम को लिखे पत्र में उन्होंने 9 विवादों मस्जिदों का जिक्र किया जहां पहले मंदिर थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में शिया बोर्ड के पूर्व नेता रिजवी ने देश की उन 9 मस्जिदों का भी जिक्र किया है जो पहले मंदिर थे। रिजवी ने पत्र में लिखा है कि इन मंदिरों को मुगलों ने तोड़कर मस्जिद बना दिया। जिन मंदिरों को तोड़कर मस्जिद में बदला गया उनमें शामिल हैं: केशव देव मंदिर मथुरा, अटाला देव मंदिर जौनपुर, काशी विश्वनाथ वाराणसी, रुद्रा महालया मन्दिर गुजरात, भद्रकाली मन्दिर गुजरात, अदीना  मस्जिद बंगाल, विजया मन्दिर विदिशा मध्य प्रदेश और मस्जिद कुवतुल इस्लाम कुतुब मीनार शामिल हैं ।

शिया नेता रिजवी ने खुशी जाहिर की है कि बाबरी मस्जिद-राम मंदिर विवाद का सुप्रीम कोर्ट के जरिए समाधान हो चुका है, अब वहां भव्य मंदिर बनने जा रहा है। आपको बता दे कि द प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट -1991 को कांग्रेस की नरसिम्हा राव सरकार में बनाया था।जिसके मुताबिक सभी धार्मिक स्थल की यथा स्थिति को बरकरार रखा गया था।

Written by Devraj Dangi

कंगना ने क्यों बताया सीएम उद्धव ठाकरे को दुनिया का “अयोग्य मुख्यमंत्री” जानिए क्या है वजह…

हाथरस घटना: सीएम योगी सख्त, SIT का गठन, 7 दिन में देंगे रिपोर्ट