in ,

दिल्ली दंगे: PM मोदी की छवि बिगाड़ने के लिए साजिश के तहते हुए थे दिल्ली में हिंसक दंगे: मीडिया रिपोर्ट्स

बीते साल फरवरी माह में पूर्वी दिल्ली में हुए हिंसक दंगो के पीछे की अहम कहानी और साजिश पर साफ होती जा रही है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कई चार्ज सीटे दाखिल की है। जिसमें देश के बड़े – बड़े नेताओं, वकीलों, कई अन्य लोगों के नाम सामने आए हैं।

यह भी पढ़े: UNGA: क्या इमरान खान को मोदी से ज्यादा डर संघ से लगता है ? अपने संबोधन में मोदी, संघ, बाबरी, राममंदिर पर रहे हमलावर

पूर्वज दिल्ली में सीएए के नाम पर विरोध प्रदर्शन के दौरान 22 फरवरी को हिंसक दंगे हुए थे। यह दंगे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान हुए थे। इसके पीछे का कारण प्रधानमंत्री मोदी की छवि को खराब करने की साज़िश कुछ वामपंथी और देश के बड़े नेताओं और वकीलों ने रची थी। इसका खुलासा हालिया दाखिल चार्ज सीट से हुआ है।

कई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कई सफेदपोश में लोग इसमें शामिल थे, दो दोनों संप्रदाय के बीच शान्ति भंग करना चाहते थे। उन्होंने है इसकी पूरी साजिश राष्ट्रपति ट्रंप की भारत यात्रा से ठीक पहले रची थी। जिसका मकसद मोदी सरकार की छवि को धूमिल करना था। साजिश कर्ताओं के इशारे पर ही ट्रंप के दिल्ली आगमन के दिन हिंसक घटना, आगजनी और मुख्य मार्गों को जाम किया गया था।

जांच एजेंसियों द्वारा कई चार्जशीट दाखिल कि का चुकी हैं और कुछ और पूरक चार्जशीट दाखिल होनी हैं जिसमें जांच एजेंसियां कई लोगों के खिलाफ सबूत भी रखेंगी।

दिल्ली में हुए यह दंगे अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत और इसके बहाने प्रधानमंत्री मोदी कि छवि को खराब करने वाले थे। इस पूरे प्रदर्शन और घटना में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों को मोहरा बनाया गया था।

दिल्ली पुलिस ने फिलहाल गैर कानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत फिलहाल जिन 21 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने अपने बयान में माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव, वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद, सीपीआइ एमएल पोलित ब्यूरो सदस्य कविता कृष्णन, बृंदा करात, कांग्रेस पार्टी के नेता उदित राज, फिल्म अभिनेत्री स्वरा भास्कर, अर्थशास्त्री जयति घोष, दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर व एक्टिविस्ट अपूर्वानंद, कांग्रेस के पूर्व विधायक मतीन अहमद, आप के विधायक अमानतुल्लाह खान, वकील महमूद प्राचा, स्टूडेंट एक्टिविस्ट कवल प्रीत कौर, वैज्ञानिक गौहर राजा, भीम आर्मी सदस्य हिमांशु व चंदन कुमार आदि के नाम का जिक्र किया है। यह सब किसी ना किसी संघटन से जुड़े है।

Written by Devraj Dangi

UN की 75 वीं वर्षगांठ: इमरान खान ने अपने भाषण में भारत को युद्ध कि दी गीदड़ भभकी, पीएम, आरएसएस पर रहा हमलावर

Report: चीन ने शिनजियांग में 16,000 हजार मस्जिदे कि ध्वस्त, लेकिन इमरान मियां इस पर क्यों मौन हैं?