in ,

BSP मायावती का बयान: राज्यसभा में कृषि बिल पर विपक्षी की गुंडागर्दी को बताया दुखद

बीते रविवार को संसद के उच्च सदन राज्यसभा में कृषि बिल पर चर्चा के दौरान को हांगमा हुआ हैं उसे पूरे देश ने देखा हैं। सत्ता पक्ष से लेकर कई विपक्षी पार्टियों और देश की जनता ने इसका पुरजोर विरोध किया हैं।

दरसअल, रविवार को राज्यसभा में कृषि बिल-2020 पर चर्चा हो रही थी। उपसभापति हरिवंश सिंह ने बिल को ध्वनि मत से पारित हुआ कराया जबकि विपक्ष मत विभाजन की मांग कर रहा था । इस दौरान बिल का विरोध कर रहे विपक्षी दलों के सांसदों ने को तरीका अपनाया वो लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला हैं।

विपक्षी दलों के सांसदों ने उपसभापति के चेयर के समक्ष पहुंच कर उनका माइक तोड़ दिया, संसदीय कार्यवाही से जुड़ी रूल बुक को फाड़ दिया। नारे बाजी करने लग गए ।

इस मुद्दे पर सभापति एम वैंकया नायडू ने उन सभी 8 सांसदों को निलंबित कर दिया। इस मामले पार अब बीएसपी सुप्रीमो और उत्तरप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की टिप्पणी भी सामने आई है। मायावती ने इसे लोकतंत्र के लिए शर्मसार बताया और इस घटना कि निंदा की हैं।

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कृषि विधेयकों को लेकर संसद के अंदर हुए हंगामे पर चिंता जाहिर की और इसे संविधान की गरिमा और लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला बताया।

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने बुधवार को ट्वीट किया, “वैसे तो संसद लोकतंत्र का मन्दिर ही कहलाता है फिर भी इसकी मर्यादा अनेक बार तार-तार हुई है। वर्तमान संसद सत्र के दौरान भी सदन में सरकार की कार्यशैली और विपक्ष का जो व्यवहार देखने को मिला है वह संसद की मर्यादा, संविधान की गरिमा व लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला है। अति-दुःखद।” 

इससे पहले पांच केंद्रीय मंत्रियों ने प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी निंदा की थी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस घटना को शर्मसार और आमार्यदित व्यवहार बताया था

Written by Devraj Dangi

भारत के आगे झुकने को मजबुर हुआ चीन, सीमा विवाद को लेकर मानी यह शर्त…

Time Magazine: दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में एक मात्र भारतीय नेता पीएम मोदी, इनके अलावा अन्य पांच लोगो में एक्टर आयुष्मान खुराना भी शामिल