in ,

Ease of Doing Business Ranking-2019 में योगी के UP ने लंबे छलांग के साथ दूसरा स्थान हासिल किया तो रेड्डी का आंध्रप्रदेश पहले पर बरक़रार !

पूरी दुनिया जहाँ कोरोना के संकट से गुजर रही हैं, दुनिया की अर्थव्यवस्था उलटे मुंह गिरती दिखाई दे रही हैं। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से संघर्ष करने के बाद भी देश के सबसे बड़े राज्य के सीएम योगी आदित्यनाथ का प्रयास प्रदेश के राजस्व को भी बढ़ाने पर है। इस प्रक्रिया में राज्य के व्यापार के तरीके में भी काफी सुधार हुआ है और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग (ese of doing business raking) में जनसंख्या की दृष्टि से देश का सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश ने लम्बी छलांग लगाई है। इस रैकिंग से पता चलता है कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य में व्यापार और उद्योग के लिए काफी बेहतर माहौल तैयार करने में सफलता पाई है। साथ की कोरोना जैसी महामारी से संघर्ष भी जारी हैं।

Credits: Jagaran.com
Also Read this New

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किये गए प्रयास निवेशकों-उद्यमियों के बीच यूपी की छवि बदलने में कारगार साबित हुए हैं। आदित्यनाथ द्वारा बार-बार किए गए दावे पर भारत सरकार के उद्योग संवर्धन एवं आंतरिक व्यापार विभाग (डीपीआइआइटी) ने भी मुहर लगा दी। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग में यूपी को देश में दूसरा स्थान मिला है। जबकि यूपी वर्ष 2017-18 की तुलना में दस पायदान की ऊंची छलांग के पीछे औद्योगिक सुधार के लिए उठाए गए 186 कदम हैं, जिनमें बहुत अहम हैं सिंगल विंडो पोर्टल निवेश मित्र। प्रदेश की कमान संभालने के साथ ही योगी आदित्यनाथ ने औद्योगिक विकास को अपनी प्राथमिकताओं में शामिल कर लिया। सरकार, निवेशकों को आकर्षित करने के लिए नियम-नीतियों में संशोधन करती रही। सरकारी दावे के मुताबिक डीपीआइआइटी ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के लिए कुल 187 सुधारात्मक कदम सुझाए थे, जिनमें से यूपी सरकार ने 186 को लागू किया। इसका ही परिणाम हैं जो ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में उत्तरप्रदेश दूसरे स्थान पर आया हैं।

देश के सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लिए ईज ऑफ डूइंग रैंकिंग को बिजनेस रिफॉर्म एक्शन प्लान के तहत डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटर्नल ट्रेड (Department for Promotion of Industry and Internal Trade) द्वारा तैयार की जाती है। इससे पहले यह रैंकिंग जुलाई 2018 में जारी की गई थी। इस रैंकिंग चार्ट में टॉप पर आंध्र प्रदेश था। तेलंगाना दूसरे और हरियाणा तीसरे स्थान पर थे।उत्तर प्रदेश ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में 12वीं रैंक से पहले की स्थिति में दस रैंक की छलांग लगाई है। अब यूपी व्यापार करने में आसानी के मामले में भारत में नंबर दो पर है। केंद्र सरकार घरेलू व वैश्विक निवेशकों को आकॢषत करने और राज्यों में कारोबारी माहौल सुधारने के लिए हर वर्ष ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग जारी करती है। जिसे राज्य व्यापार सुधार एक्शन प्लान रैंकिंग भी कहा जाता है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को वर्ष 2019 के लिए यह रैंकिंग जारी की। जिसमें उत्तर प्रदेश के हाथ एक बड़ी सफलता लगी है। यह सूबे की योगी सरकार के लिए एक अहम सफलता हैं। उनकी सरकार ने राज्य में निवेश की स्थिति को बेहतर बनाया हैं।

Also Read This News

भारत सरकार की तरफ से जारी इस ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में उत्तर प्रदेश ने लम्बी छलांग लगाकर दूसरा स्थान हासिल कर लिया है। पहले स्थान आंध्र प्रदेश है। उत्तर प्रदेश ने तेलंगाना को पीछे छोड़ते हुए दूसरे नंबर पर जगह बना ली है। उत्तर प्रदेश के छलांग लगाने के कारण तेलंगाना तीसरे स्थान पर खिसक गया है। इस रैकिंग से पता चलता है कि यूपी सरकार ने व्यापार में सुधार की दिशा में तेजी से काम किया है। इसके साथ ही यहां पर निवेशक आसानी से व्यापार को बढ़ा भी सकते हैं। वही आँध्रप्रदेश ने अपनी रैंक को बरकार रखा हैं जो मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी की कार्यकुशलता को भी दर्शता हैं।

आपको बता दे इससे पहले हुए एक सर्वे में सीएम योगी और सीएम रेड्डी सबसे लोकप्रिय सीएम चुने गए थे। उस सर्वे के मुताबिक सीएम योगी देश के सबसे बेहतर तो राज्य में जगनमोहन रेड्डी को चुना गया था।

Written by Devraj Dangi

देश की गिरती अर्थव्यवस्था के बीच भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 541.43 अरब डॉलर के साथ अबतक के सबसे उच्चतम स्तर पर पंहुचा !

शिवसेना सांसद संजय रावत की जुबान हुई बेलगाम, अभिनेत्री कंगना को बताया ‘हरामखोर लड़की’, कंगना ने भी दिया मुंह तोड़ जवाब