in

PM मोदी की जान को खतरा, NIA को मिला ‘Kill Narendra Modi’ का मेल, NIA ने गृह मंत्रालय को किया सतर्क

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की बड़ी साजिश रचने की बात सामने आई हैं कुछ मीडिया ख़बरों के मुताबिक इस साजिश के संबंध में राष्ट्रीय जॉंच एजेंसी (NIA) ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को लिखकर आगाह किया हैं। गृह मंत्रालय ने भी इस साजिश की जानकारी SPG को भी जानकारी दी हैं। आपको बता दे कि पीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी एसपीजी के पास हैं।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी को धमकी भरे कुछ ई-मेल प्राप्त हुए हैं। इनमें PM मोदी की हत्या की बात कही गई है। इस ई मेल में 3 शब्द लिखे गए हैं- किल नरेंद्र मोदी (Kill Narendra Modi)। फिलहाल ई-मेल के कंटेंट की जाँच की जा रही है। उसके बाद साफ़ हो पायेगा। लेकिन फ़िलहाल पीएम की सुरक्षा को सुदृढ़ किया हैं।

TIMES NOW की खबर के अनुसार, एनआईए ने गृह मंत्रालय एक पत्र लिखकर पीएम मोदी को हत्या वाले ई-मेल की जानकारी दी है। एजेंसी ने अपने पत्र में लिखा, “एनआईए को एक ईमेल आईडी मिली है जिसमें कुछ गणमान्य लोगों की हत्या की बात कही गई है। ई-मेल में मौजूद कंटेंट इसकी तस्दीक करते हैं। इस पत्र के साथ ही ई-मेल की कॉपी भी लगाई गई है। इस मामले में एनआईए ने उचित कार्रवाई करने का अनुरोध भी किया है। इसी बीच गृह मंत्रालय ने पीएम की सुरक्षा एजेंसी एसपीजी को सुचना दे दी हैं।

आपको बता दें कि यह मेल 8 अगस्त को जारी किया गया था। जिसमें सभी सुरक्षा एजेंसियों के खतरे के साथ प्रधानमंत्री के जीवन पर भी सीधे खतरे की बात की गई है। ई-मेल का पता लगने के बाद सुरक्षा एजेन्सियाँ चौकन्नी हो गई हैं। खतरे के मद्देनजर पीएम मोदी की सुरक्षा कवच को बढ़ा दिया गया है। SPG उनकी सुरक्षा लेकर चाकचौबंद हैं।

NIA कई प्रमुख सुरक्षा एजेंसियों के भी संपर्क में है। इनमें रॉ, खुफिया ब्यूरो (आईबी), डिफेंस इंटेलिजेंस के प्रतिनिधि शामिल हैं। गौरतलब है कि यह खुलासा ऐसे समय में हुआ है जब पीएम मोदी के प्रति नफरत की राजनीतिक को बढ़ावा दिया जा रहा है। ई-मेल का खुलासा होने के बाद बाहरी तत्वों पर सख्ती से नजर रखी जा रही है। आतंकी हमलों को लेकर सुरक्षा एजेंसियॉं पहले ही अलर्ट कर चुकी हैं। भारतीय जाँच दल अलर्ट पर और वह ऐसे लगों के इरादों और साजिश को नाकाम कर देगा।

Written by Devraj Dangi

मोदी सरकार ने जम्मू – कश्मीर से उर्दू का एक छत्र राज किया ख़त्म, हिंदी, डोगरी समेत इन भाषाओ को दिया आधिकारिक दर्जा !

CM योगी ने दिया ड्रैगन को बड़ा झटका, अब चीनी कंपनिया नहीं ले सकेगी उत्तरप्रदेश के सरकारी टेंडर