in ,

शिवराज सिंह कैबिनेट का विस्तार, आज हुई “शिव’ की “सेना” तैयार, जानिए कौन बना मंत्री और किसकी हुई छुट्टी ?

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सरकार के 100 वें दिन के बाद किया मंत्रिमंडल का विस्तार। 23 मार्च को चौथी बार सीएम बनने के बाद आज उनके मंत्री मंडल का विस्तार हुआ। इससे पहले शिवराज समेत 6 मंत्री थे जो प्रदेश सरकार चला रहे थे। आज 20 कैबिनेट मंत्री और 8 राज्य मंत्रियों ने ली शपथ ।

विपक्ष और पार्टी का था शिवराज पर दबाव


मंत्रिमंडल में हुई देर से साफ अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि बीजेपी और शिवराज के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा था। इसलिए मंत्रिमंडल में देरी हुई हैं, कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए 22 विधायकों में से कितने को मंत्री बनाया जाए और बीजेपी के वरिष्ठ पूर्व मंत्रियों को जगह दी जाए यानी शिवराज को बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं और सिंधिया समर्थकों में तालमेल बनना था इसके चलते देरी हो रही थी। इसी को लेकर लगातार विपक्ष शिवराज पर मंत्री मंडल विस्तार को लेकर हमलावर था।

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ सभी नव निर्वाचित मंत्रिमंडल के सदस्य

कैबिनेट में इन्हे मिली जगह


लंबे दिनों के बाद हुए शिवराज सिंह मंत्रिमंडल विस्तार में बीजेपी सरकार में मंत्री रहे कई वरिष्ठ मंत्रियों को जगह मिली तो कई की हो गई छुट्टी। सिंधिया गुट का भी खासा दबदबा देखने को मिला हैं।

बीजेपी से इन्हे मिला मौका:
बीजेपी से भूपेंद्र सिंह, गोपाल भार्गव, यशोधरा राजे सिंधिया, विश्वास सारंग, अरविंद सिंह भदोरिया, उषा ठाकुर आदि. सिंधिया खेमे से 11 मंत्री बने जबकि पहले से ही तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत मंत्री थे । अब सिंधिया खेमे से कुल 13 मंत्री हो गए।

इनका कटा पत्ता


शिवराज सरकार में कद्दावर मंत्री संजय पाठक, रहे महेंद्र हार्डिया, गौरीशंकर बिसेन, रामपाल सिंह, रमेश मेंदोला, को इस बार मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिल पाई। क्योंकि सिंधिया खेमे के साथ तालमेल बने और उपचुनाव को ध्यान में रखते हुए ऐसा हुआ।

इन्होंने ने ली शपथ (पूरी लिस्ट)

भाजपा विधायक (16)
1 – गोपाल भार्गव – रहली
2 – भूपेंद्र सिंह
3 – विजय शाह – हरसूद
4 – जगदीश देवड़ा – मल्हारगढ़
5 – प्रेम सिंह पटेल – बड़वानी
6 – यशोधरा राजे सिंधिया – शिवपुरी
7 – ओमप्रकाश सखलेचा – जावद
8 – बृजेंद्र प्रताप सिंह
9 – विश्वास सारंग – नरेला (भोपाल)
10 – ऊषा ठाकुर – महू
11 – मोहन यादव – उज्जैन दक्षिण
12 – अरविंद भदौरिया – अटेर
13 – भारत सिंह कुशवाह – ग्वालियर ग्रामीण
14 – इंदर सिंह परमार – शुजालपुर
15 – राम खेलावन पटेल – अमरपाटन
16 – राम किशोर कांवरे-बालाघाट

सिंधिया समर्थक (9)
17 – राजवर्धन सिंह दत्तीगांव –
18 – प्रदुम्न सिंह तोमर
19 – इमरती देवी
20 – महेंद्र सिसोदिया
21 – गिरिराज दंडोतिया
22 – सुरेश धाकड़
23 – ओपी एस भदौरिया
24 – प्रभुराम चौधरी
25 – ब्रिजेंद्र सिंह यादव

कांग्रेस से भाजपा में आए (3)
26 -बिसाहू लाल सिंह
27 – एंदल सिंह कंसाना
28 – हरदीप सिंह डंग

कितने बन सकते हैं और मंत्री


भारतीय संसद द्वारा पारित के अधिनियम के तहत विधायिका में उसकी सदस्य संख्या के 15 प्रतिशत सदस्य ही मंत्री बन सकते हैं । उसके मुताबिक मध्यप्रदेश में विधानसभा सदस्यों कि संख्या 230 हैं उसका पंद्रह प्रतिशत हुआ 35 यानी शिवराज सरकार में मुख्यमंत्री समेत अधिकतम 35 मंत्री बन सकते । वर्तमान में प्रदेश सरकार में मंत्रियों कि संख्या 34 हो गई । अब चाहे तो कभी 1मंत्री और भविष्य में बन सकते हैं।

Written by Devraj Dangi

नेपाली पीएम को भारत के खिलाफ बयान देना पड़ा महंगा, अपनी पार्टी ने मांगा इस्तीफा !

जानिए आपका पसंदीदा कौनसा सेलेब्स हुआ ‘लॉकडाउन’ में ‘लॉक’