in

चीनी पत्रकार को आनंद महिंद्रा ने दिया करारा जवाब!

भारत सरकार ने इस है सप्ताह 59 चीनी मोबाइल ऐप्स को भारत में बैन कर दिया। इसमें टिक टॉक और यूसी ब्राउज़र जैसे पॉपुलर ऐप भी शामिल हैं। भारत के इस कदम से चीन बौखला गया है। झल्लाए हुए एक चीन पत्रकार ने भारत सरकार के इस कदम के खिलाफ एक ट्वीट करते हुए लिखा “भारत वाले ऐसा कुछ बनाते ही नहीं हैं, जिसका हम (यानी चीनी) बॉयकॉट कर सके।” इस ट्वीट का चीनी पत्रकार को करारा जवाब सरकार से नहीं बल्कि भारतीय उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर दिया है।

बात कुछ यह हैं कि चीनी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स के संपादक और चीन के जाने – माने पत्रकार हू शिजिन ने ट्वीट करते हुए लिखा “चीन के लोग भारतीय उत्पादों का बहिष्कार करना चाहते हैं, मगर वास्तव में इंडिया वाले ऐसा कुछ बनाते ही भी हैं जिसका हम बहिष्कार करें। भारतीय मित्रों, आपको कुछ ऐसी चीजें करनी चाहिए जो राष्ट्रवाद से ज्यादा महत्वपूर्ण हो।” इस ट्वीट का आनंद महिंद्रा ने करारा जवाब देते हुए ट्वीट किया, “मुझे संदेह हैं कि यह कमेंट भारतीय कंपनियों के लिए अब तक का सबसे प्रभावी और प्रेरणादायी उद्घोष हैं। आपके उकसावे का शुक्रिया। हम मजबूती के साथ खड़े होंगे।”

Twits : Anand Mahindra

चीनी सरकार ने भारत द्वारा 59 चाइनीज ऐप पर लगाई गई रोक पर चिंता जाहिर की है।

भारत सरकार द्वारा इन 59 चीनी ऐप्स पर बैन लगाने का कारण है, देश की “संप्रभुता और अखंडता” को चोट पहुंचने वाली गतिविधियों में लिप्त होने के कारण चीनी ऐप्स पर रोक लगाई हैं। रोक लगाने के ठीक एक दिन बाद चीन ने इस कदम पर चिंता जताते हुए कहा कि भारत सरकार पर अंतरराष्ट्रीय निवेशकों के “वैध व कानूनी अधिकारों” की रक्षा की जिम्मेदारी हैं।

भारत सरकार ने इन 59 चीनी ऐप्स पर ऐसे समय में प्रतिबन्ध लगाया है जब भारत – चीन के मध्य सीमा विवाद जारी है। हाल ही में पूर्वी लद्दाख के समीप लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर चीनी सैनिकों के साथ हुई झडप में 20 भारतीय जवान शहीद हो गई । सरकार द्वारा बैन किए ऐप्स की सूची में कई लोकप्रिय ऐप भी शामिल हैं जैसे TikTok, वीचैट, बिगो लाइव, हेलो, लाइकी, कैम स्कैनर, वीगो वीडियो, एमआई कम्युनिटी, के साथ ही ई कॉमर्स प्लेटफॉर्म क्लब फैक्ट्री भी इस सूची में शामिल हैं।

चीन ने चिंता जताते हुए कहा कि ऐप बैन करना भारतीय पक्ष के हित यानी फायदे में नहीं


चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लिजियान ने भारत सरकार के द्वारा बैन किए गए चीनी ऐप्स पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “चीन भारत सरकार द्वारा जारी नोटिस से बहुत चिंतित है। हम स्थिति कि जांच और पुष्टि कर रहे हैं।” उन्होंने आगे कहा, “मैं इस बात पर ध्यान देना चाहता हूं कि चीन सरकार हमेशा अपने कारोबारियों से विदेश में इंटरनेशनल नियमों, स्थानीय कानूनों और नियम – विनियम के पालन की बात करती हैं।” लीजियान ने कहा, “भारतीय सरकार की जिम्मेदारी हैं कि वह चीनी सहित सभी बाहरी इन्वेस्टर्स के वैध और कानूनी अधिकारों की सुरक्षा करे।”

लिजियान ने आगे कहा, “चीन और इंडिया के बीच व्यावहारिक सहयोग में वास्तव में दोनों ही देशों का फायदा हैं। उन्होंने बोला कि ऐसी घटनाओं से नुकसान होगा और यह भारतीय पक्ष के हित में नहीं है।

आईटी की धारा 69 ए के तहत निहित अपनी शक्तियों का प्रयोग

भारत सरकार के आईटी यानी सूचना और तकनीकी मंत्रालय ने कहा कि उन्हें विभिन्न स्रोतों से शिकायते मिली हैं, जिसमें एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कई मोबाइल ऐप्स के दुरुपयोग की कई रिपोर्ट शामिल हैं। रिपोर्ट में कहा गया है उपयोगकर्ता का डाटा चुराकर, उन्हें गुपचुप तरीके से देश के बाहर स्थित सर्वर को भेज दिया जाता हैं। जो भारत कि राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति शत्रुता रखने वालों कई तत्वों द्वारा इनका दुरुपयोग किया जाता है। इसके चलते भारत सरकार ने आईटी की धारा 69 ए के तहत निहित अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए इन 59 ऐप्स को बैन करने का फैसला लिया है।

Written by Devraj Dangi

जानिए आपका पसंदीदा कौनसा सेलेब्स हुआ ‘लॉकडाउन’ में ‘लॉक’

टिकटोक बंद होने से खुश है मम्मी, घर के काम काज करने लगी बिटियाँ