in

नेहरू-गाँधी परिवार पर टिप्पणी को लेकर अभिनेत्री पायल रोहतगी गिरफ्तार, प्रधानमंत्री को ‘खून का दलाल’ कहने वाले अब भी बाहर

पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और उनके पिता मोतीलाल नेहरू के खिलाफ आपत्तिजनक वीडियो बनाने और उसे शेयर करने के मामले में एक्ट्रेस व मॉडल पायल रोहतगी को कोर्ट ने 24 दिसंबर तक के लिए जेल भेज दिया है. पायल को हाल ही में इस मामले में बूंदी पुलिस ने अहमदाबाद से गिरफ्तार किया था.

Related image
photo credit- news18.com

गिरफ्तारी के बाद पायल और उनके पार्टनर संग्राम सिंह ने ट्विटर पर पीएम मोदी और गृह मंत्रालय से मदद मांगी थी. हालांकि उन्हें इस मामले में कोई मदद नहीं मिली है. उनकी जमानत याचिका को भी कोर्ट ने खारिज कर दिया जिसके बाद अब वह 24 दिसंबर तक जेल में ही रहेंगी.

हालाँकि ऐसे कई लोग जिनमे नेता भी शामिल हे जिन्होंने वर्त्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कई तरह की अभद्र टिप्पणियां की ! जहां एक तरफ उन्हें ‘खून का दलाल’ कहा गया तो गुजरात विधानसभा चुनाव के समय उन्हें कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने ‘नीच’ तक कह दिया था !
लेकिन ऐसे नेताओ पर अब तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो सकी !
लोकसभा चुनाव के दौरान भी प्रधानमंत्री मोदी पर विपक्षी नेताओ ने अभद्र टिप्पणियां की थी जिसको लेकर कई शिकायतें भी दर्ज की गयी थी लेकिन उन पर अब तक कोई एक्शन नहीं लिया गया !
क्या देश के प्रधानमंत्री पर इस तरह टिप्पणी करना शोभनीय है ?

बता दें कि पायल की गिरफ्तारी की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई थी क्योंकि उन्होंने अपनी गिरफ्तारी के बारे में खुद ही ट्विटर पर ट्वीट करके सभी को बता दिया था. उन्होंने ट्वीट किया, “”मुझे मोती लाल नेहरू पर बनाए गए एक वीडियो के लिए राजस्थान पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया है. वीडियो में दी गई जानकारी मैंने गूगल से निकाली थी. क्या अभिव्यक्ति की आजादी एक मजाक है?”

पायल रोहतगी की गिरफ्तारी के बाद उनके पार्टनर संग्राम ने भी पीएम मोदी को टैग करते हुए ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने लिखा, “क्या कांग्रेस रूलिंग स्टेट में ये अभिव्यक्ति की आजादी है?

इसके बाद ट्विटर पर भी पायल रोहतगी के समर्थन में #isupportpayalrohtagi ट्रेंड करने लगा !

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

निर्भया कांड को बीते सात साल: न दरिंदगी रुकी न न्याय का इंतजार कम हुआ

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को फांसी की सजा, देशद्रोह के मामले में है दोषी