in

हैदराबाद कांड/ महिला वेटनरी डॉक्टर की फॉरेंसिक रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, हैवानियत की हुई थी सारी हदें पार

हैदराबाद. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर (Veterinary Doctor) से गैंगरेप के बाद हत्या के मामले में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं. महिला डॉक्टर की डीएनए रिपोर्ट आने के बाद फॉरेंसिक जांच में भी कई बड़े खुलासे हुए हैं.इस बात की पुष्टि हो गई है कि डॉक्टर को मारने से पहले आरोपियों ने जबरदस्ती शराब भी पिलाई थी.

Image result for heydrabad rep kaand
photo credit- iChowk.in

फॉरेंसिक रिपोर्ट के खुलासे

अंग्रेजी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक पोस्टमॉर्टम फॉरेंसिक टॉक्सिकोलॉजी में इस बात का खुलासा हुआ है कि महिला डॉक्टर की लिवर टिशूज (liver Tissue) में शराब के अंश मिले हैं. बता दें कि घटना के तुरंत बाद पुलिस ने कहा था कि आरोपियों ने डॉक्टर का रेप और मर्डर करने से पहले जबरदस्ती शराब भी पिलाई थी. अब पुलिस के इन दावों की पुष्टि हो गई है.

DNA रिपोर्ट में क्या मिला ?

बता दें कि महिला डॉक्टर की बॉडी की हड्डियों को DNA जांच के लिए भेजा गया था. रिपोर्ट के मुताबिक ये DNA डॉक्टर के परिवारवालों से मैच कर गया है. इसके अलावा पीड़िता के कपड़ों से सेमिनल सैंपल लिए गए थे. DNA जांच से इस बात की भी पुष्टि हो गई है कि घटना स्थल पर पाए गए सेमिनल के दाग (Seminal Stains) चार आरोपियों के ही थे.

आरोपियों के शव को सुरक्षित रखने का आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि एनकाउंटर में मारे गए आरोपियों के शव सुरक्षित रखने के हाईकोर्ट का आदेश फिलहाल बरकरार रहेगा. तेलंगाना हाईकोर्ट ने नौ दिसंबर को अधिकारियों को 13 दिसंबर तक चारों शवों को संरक्षित करने का आदेश दिया था. शीर्ष अदालत ने यह भी स्पष्ट किया कि आयेाग की जांच के दौरान कोई अन्य अदालत जांच नहीं करेगा. इस मामले की जांच के लिए शीर्ष अदालत ने तीन सदस्यीय आयोग का गठन किया है जिसकी अगुवाई उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश वी एस सिरपुरकर कर रहे हैं.

खास खबरें-

Parliament Attack 2001: 18 साल पहले जब दहल गयी थी संसद, जानिए कैसा था वो दिन

16 साल की ग्रेटा थनबर्ग जिसने दुनिया के शीर्ष नेताओ से ली टक्कर

दिल दहला देगी एसिड अटैक दीपिका पादुकोण की चीखे, ‘छपाक’ का ट्रेलर देख रोने लगे लोग

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

व्हाट्सअप का बड़ा फैसला: इतने सेकंड में भेजे 100 मैसेज तो होगी क़ानूनी कार्यवाही

निर्भया कांड को बीते सात साल: न दरिंदगी रुकी न न्याय का इंतजार कम हुआ