in

भाजपा-शिवसेना की तल्खी के बीच किसान ने गर्वनर को लिखा पत्र कहा- मुझे बना दो मुख्यमंत्री

हाइलाइट्स

  • महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव नतीजे आए एक हफ्ते हो गए पर अब तक सरकार नहीं बन पाई है
  • इस बीच बीड जिले के एक किसान ने राज्‍य का मुख्‍यमंत्री बनने की इच्‍छा जताई है
  • किसान श्रीकांत वी गदले का कहना है कि महाराष्‍ट्र में जल्द से जल्द सरकार की जरूरत है
  • गदले से खुद को सीएम बनाए जाने की मांग को लेकर राज्‍यपाल को एक चिट्ठी लिखी है

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव नतीजे आए लगभग एक हफ्ते हो गए पर अब तक सरकार नहीं बन पाई है। मुख्‍यमंत्री पद को लेकर बीजेपी और शिवसेना की तल्‍खी जब तक खत्‍म हो, तब तक बीड जिले के एक किसान ने राज्‍य का मुख्‍यमंत्री बनने की इच्‍छा जताई है। किसान श्रीकांत वी गदले का कहना है कि महाराष्‍ट्र में जल्द से जल्द सरकार की जरूरत है।
राज्‍यपाल को लिखे गए एक पत्र में श्रीकांत वी गदले ने कहा है, ‘जब तक सीएम पद के मामले का कोई हल नहीं निकल जाता है, तब तक मुझे महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाया जाना चाहिए। बेमौसम बारिश के बाद फसलों के नुकसान के कारण किसानों के लिए यह कठिन समय है। राज्‍य में जल्‍द से जल्‍द एक सरकार की आवश्‍यकता है।’

बता दें बीजेपी और शिवसेना के बीच जारी रस्साकशी की वजह से राज्य में नई सरकार के गठन में लगातार देरी हो रही है. दरअसल शिवसेना 50-50 फॉर्मूले पर अड़ गई है. शिवसेना का कहना है कि 50-50 फॉर्मूले आधार पर ही गठबंधन तय हुआ था जबकि बीजेपी का कहना है कि गठवंधन के वक्त 50-50 पर कोई बात नहीं हुई थी. 

सीएम पद को लेकर अड़ी है शिवसेना
बता दें कि 24 अक्‍टूबर को आए चुनाव नतीजों में बीजेपी को 105 तो शिवसेना को 56 सीटों पर जीत हासिल हुई है। 288 सदस्‍यीय विधानसभा में सरकार बनाने के लिए 145 सीटें चाहिए। शिवसेना ढाई-ढाई साल तक दोनों दलों के सीएम बनाए जाने की मांग पर अड़ी हुई है जबकि बीजेपी का कहना है कि देवेंद्र फडणवीस ही पूरे पांच साल तक मुख्‍यमंत्री रहेंगे।

पवार से मिले संजय राउत, बढ़ी सरगर्मी

इस बीच, शिवसेना सांसद संजय राउत की एनसीपी अध्‍यक्ष शरद पवार से हुई मुलाकात से राजनीतिक सरगर्मी और तेज हो गई है। हालांकि संजय राउत का कहना है कि वह शरद पवार को दिवाली की बधाई देने गए थे लेकिन यह चर्चा तेज है कि शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस के सहयोग से सरकार बनाने की ओर कदम बढ़ा सकती है।

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

भारत से अपना बोरिया-बिस्तर समेट रहा वोडाफोन, जानिए क्या हैं वजह

मध्यप्रदेश स्थापना दिवस: माँ की गोद पिता का आँचल मेरा मध्यप्रदेश है !