in

पंवार से मिल शिवसेना के तेवर हुए सख्त, कहा- अपने दम पर स्थिर सरकार बना सकते है

महाराष्ट्र में सीएम पद को लेकर बीजेपी से चल रही तनातनी के बीच शिवसेना के अपने दम पर सरकार बनाने की बात करने से सियासी हलचल तेज हो गई है। दरअसल, एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात के बाद शिवसेना सांसद संजय राउत ने दावा किया है कि अगर शिवसेना चाहे तो अपने दम पर राज्‍य में सरकार बना सकती है। राउत का कहना है कि अगर शिवसेना फैसला करती है तो उसे स्थिर सरकार बनाने के लिए आवश्यक संख्या मिल जाएगी। उन्होंने कहा है कि जनता ने 50-50 फॉर्म्युले के आधार पर सरकार बनाने का जनादेश दिया है। जनता शिवसेना का सीएम चाहती है, लिखकर रख लीजिए शिवसेना का ही सीएम होगा। आपको बता दें कि गुरुवार को संजय राउत एनसीपी चीफ शरद पवार से मुलाकात करने गए थे। तब से राज्‍य में सरकार बनाने के नए समीकरण की संभावनाएं जन्म लेने लगी हैं।

Image result for sanjay raut meets sharad pawar
शिवसेना नेता संजय राउत की शरद पंवार से मुलाकात के बाद राज्य में सियासी सरगर्मी तेज

इससे पहले संजय राउत ने ट्वीट कर कहा कि साहिब… मत पालिए, अहंकार को इतना, वक़्त के सागर में कईं, सिकन्दर डूब गए..! हालांकि इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल भी किया गया। शिवसेना नेता की आलोचना करते हुए कहा गया कि बड़ा दल होने की वजह से मुख्यमंत्री तो भाजपा का ही होगा।

सीएम पद को लेकर अड़े हैं उद्धव ठाकरे

दूसरी ओर, शिवसेना का मुख्‍यमंत्री बनाए जाने को लेकर पार्टी अध्‍यक्ष उद्धव ठाकरे के तेवर भी कड़े बने हुए हैं। गुरुवार को सेना भवन में पार्टी विधायकों को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा, ‘मुख्‍यमंत्री पद पाना शिवसेना का सपना है। मैं एक राजनीतिक दल चलाता हूं और मेरी इच्‍छा है कि शिवसेना का सीएम होना चाहिए। इसमें गलत क्‍या है। यह मेरा आग्रह है और इसे मैं आप सबकी मदद से पूरा करूंगा। मुख्‍यमंत्री की कुर्सी पर कोई हमेशा के लिए नहीं बैठ सकता।’

उल्लेखनीय है कि हाल में हुए विधानसभा चुनावों 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा को 105 सीटें मिलीं जबकि शिवसेना के खाते में 56 सीटें आई हैं।

सम्बंधित जानकारी:

सरकार गठन को लेकर लेकर भाजपा-शिवसेना में तकरार जारी

किसान ने सीएम बनने की इच्छा जताई, राज्यपाल को लिखा पत्र

तो क्या अनिल कपूर बनेंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

मध्यप्रदेश स्थापना दिवस: माँ की गोद पिता का आँचल मेरा मध्यप्रदेश है !

17 साल पहले जुदा हुई दो बहनो को सेल्फी ने मिलाया