in

भारत से अपना बोरिया-बिस्तर समेट रहा वोडाफोन, जानिए क्या हैं वजह

भारत की बड़ी टेलीकॉम कंपनियों में से एक Vodafone भारत में अपना बिजनेस बंद कर सकती है. ये रिपोर्ट न्यूय एजेंसी IANS की तरफ से है. इस रिपोर्ट के मुताबिक वोडाफोन वोडाफोन घाटे में चल रही है. हालांकि कंपनी ने अब तक इस खबर को लेकर कोई भी स्टेटमेंट जारी नहीं किया है.

गौरतलब है कि रिलायंस जियो के आने के बाद भारतीय टेलीकॉम कंपनी आईडिया और वोडाफोन का मर्जर हो गया है और अब यो दोनों कंपनियां मिल कर काम करती हैं. IANS की रिपोर्ट के मुताबिक वोडाफोन वोडाफोन अपनी पैकिंग कर चुका है और किसी भी समय यहां से जा सकता है. यह ऑपरेशनल लॉस और मार्केट कैपिटलाइजेशन में गिरावट की वजह से हो रहा है. कंपनी इसी वजह से लगातार घाटे में जा रही है.

इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि पिछले कुछ समय में वोडाफोन के लाखों कस्टमर्स घटे हैं. ताजा फिनांशियल क्वॉर्टर में कंपनी को नुकसान हुआ है. स्टॉक मार्केट वैल्यू भी लगातार कम हो रहे हैं. जून 2019 में कंपनी ने 4,067 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है जो इसी समय 2018 से लगभग दो गुना ज्यादा है.  

कुछ दिन पहल एक रिपोर्ट आई थी कि वोडाफोन आईडिया बकाया राशी जमा करने के लिए किसी लेंडर का सहारा लेने की तैयारी कर रही है. हालांकि बाद में वोडाफोन ने इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा नहीं है और कंपनी तय समय से बकाया चुका रही है.

सुप्रीम कोर्ट ने AGR जजमेंट के तहत वोडाफोन-आईडिया को 28,309 करोड़ रुपये का भुगतान करने को कहा है. रिपोर्ट के मुताबिक अगर संभव हुआ तो कंपनी इस कोर्ट ऑर्डर के रिव्यू के लिए आवेदन कर सकती है. IANS की एक रिपोर्ट में कोटक इंस्टिच्यूशनल इक्विटीज ने कहा है, ’28,500 करोड़ रुपये के आउटस्टैंडिंग लाइब्लिलिटीज में कंपनी को अगर राहत नहीं मिलती है तो जाहिर है वोडाफोन आईडिया के लिए मुश्किल होगी.

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

कमलेश तिवारी हत्याकांड/ एक और आरोपी कामरान बरेली से गिरफ्तार, आरोपियों को नेपाल ले गया था

भाजपा-शिवसेना की तल्खी के बीच किसान ने गर्वनर को लिखा पत्र कहा- मुझे बना दो मुख्यमंत्री