in

आखिरी सुनवाई के दौरान कोर्ट में हंगामा, मुस्लिम पक्ष के वकील ने अयोध्या का नक्शा फाड़ा

अयोध्या केस में आज आखिरी सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में जबरदस्त गहमागहमी और ड्रामा देखने को मिला। 5 जजों की संविधान पीठ के सामने मुस्लिम पक्षकार के वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने अयोध्या से संबंधित एक नक्शा ही फाड़ दिया। दरअसल, हिंदू पक्षकार के वकील विकास सिंह ने एक किताब का जिक्र करते हुए नक्शा दिखाया था। नक्शा फाड़ने के बाद हिंदू महासभा के वकील और धवन में तीखी बहस हो गई। इससे नाराज चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा था जज उठकर चले जाएंगे।

जानें कोर्ट में हुआ क्या

हिंदू महासभा के वकील विकास सिंह ने कहा, ‘हम अयोध्या रीविजिट किताब कोर्ट के सामने रखना चाहते हैं जिसे रिटायर आईपीएस किशोर कुणाल ने लिखी है। इसमें राम मंदिर के पहले के अस्तित्व के बारे में लिखा है। किताब में हंस बेकर का कोट है। चैप्टर 24 में लिखा है कि जन्मस्थान के वायु कोण में रसोई थी। जन्मस्थान के दक्षिणी भाग में कुआं था। बैकर के किताब के हिसाब से जन्मस्थान ठीक बीच में था। विकास ने उसी किताब का नक्शा कोर्ट को दिखाया। जिसे धवन ने पांच टुकड़ों में फाड़ डाला।

राजीव धवन: हम इसका गंभीरता से विरोध करते हैं।

विकास सिंह: हम मंदिर की मौजूदगी के लिए नक्शा पेश करना चाहते हैं। (कॉपी पेश की)

राजीव धवन: (उनके पास मौजूद नक्शे की कॉपी फाड़ दी) हम इसका विरोध करते हैं।

चीफ जस्टिस: इस तरह का माहौल जारी रहा तो कोर्ट सुनवाई अभी खत्म कर देंगे। इस तरह अगर सुनवाई हुई तो जज उठेंगे और चले जाएंगे।

विकास सिंह: पूरे आदर के साथ कहना चाहता हूं कि अदालत का का डेकोरम मैं खराब नहीं कर रहा। भारत सरकार अधिनियम 1858 आया और बोर्ड को खत्म कर दिया गया।

बहुत हो चुका, आज 5 बजे तक खत्म करें सुनवाई: गोगोई

सुनवाई शुरू के बाद एक वकील ने एक्स्ट्रा समय मांगा। जिसपर CJI गोगोई ने स्पष्ट कर दिया कि आज शाम 5 बजे अयोध्या मामले की सुनवाई खत्म हो जाएगी। एक वकील ने मामले में हस्तक्षेप की अपील की तो CJI ने अपील खारिज कर दी।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें-

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

ग्लोबल हंगर इंडेक्स/ भुखमरी में भारत , पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका से भी पिछड़ा

14-वर्षीय ब्रेन ने भारत को गौरवान्वित किया, यू -18 विश्व शतरंज चैंपियनशिप जीती, दुनियाभर से प्रशंसा,लेकिन भारतीय मिडिया की नजरअंदाजगी