in

उसने अपना हाथ मुझ पर फेरते हुए मुझे डिनर का कहा,में डरकर भाग गयी, अब ऋचा चड्डा के कास्टिंग काउच पर सनसनीखेज खुलासे

फिल्म इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच के मामले अक्सर सामने आते हैं. वक्त-वक्त पर कई नामी एक्ट्रेसेस ने अपने साथ हुए इन बुरे अनुभवों को साझा किया है.बीते साल चर्चा में आए Metoo अभियान के तहत कई महिलाओं ने अपने साथ हुए शोषण को दुनिया के सामने रखा। इस दौरान बॉलीवुड की कई एक्ट्रेस ने भी अपनी आप बीती सुनाई। इसके चलते कई बड़े सेलिब्रेटीज पर गाज गिरी। कई मशहूर हस्तियों को काम मिलना भी बंद हो गया। बीते दिनों जरीन खान और एली अबराम ने कास्टिंग काउच पर खुलासा कर सबको चौंका दिया था। अब एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा ने भी अपने साथ हुई एक घटना को शेयर किया है।

ऋचा चड्ढा ने पिंकविला से बात करते हुए बताया कि उनके शुरुआती दौर में कई बार उन्हें इस प्रकार के लोगों का सामना करना पड़ता था. उन्होंने कहा कि वो जब इंडस्ट्री में आईं तो काफी यंग थी और उन्हें ये सब समझ नहीं आता था.

अपने अनुभव साझा करते हुए उन्होंने बताया, ”कई बार मेरे साथ ऐसा हुआ जिनमें से ज्यादातर तो मैं ये समझ ही नहीं पाती थी. मैं बहुत यंग थी और बेवकूफ भी. एक बार एक शख्स मेरे पास आया और कहा कि मुझे उनके साथ डिनर करना चाहिए. लेकिन मैं समझ नहीं पाई और मैंने कहा कि मैं डिनर कर चुकी हूं. उस शख्स ने मुझसे बार-बार डिनर के लिए पूछा इस दौरान मैंने उसे इंकार करते हुए मैंने क्या-क्या ये तक बता दिया. लेकिन बाद में उसने अपना हाथ मुझ पर फेरते हुए कहा कि हमें डिनर करना चाहिए. तब मुझे समझ आया कि वो क्या कह रहा है. मैंने अपने अंकल को बुलाया और वहां से भाग गई.”

इतना ही नहीं ऋचा ने इस दौरान ये भी बताया कि उन्हें कई बार फिल्मों से हाथ भी धोना पड़ा. उन्होंने कहा कि कई बार तो ऐसा भी हुआ कि फिल्म शुरू होने वाली है, कॉस्ट्यूम्स भी तैयार हैं. लेकिन फिर भी लास्ट मूमेंट पर उन्हें फिल्म से निकाल दिया गया. आपको बता दें कि ऋचा ने साल 2008 में फिल्म ‘ओए लकी,लकी ओए’ से शुरुआत की थी.

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

जयंती विशेष/ ‘इंतजार करने वालो को उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते है’ कलाम का संघर्ष भरा सफर, जो बना युवाओं का प्रेरणास्त्रोत

देश की पहली नेत्रहीन आईएएस अधिकारी प्रांजल पाटिल ने केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में उप-जिलाधिकारी का पद संभाला