in , , ,

शरद पंवार को महाराष्ट्र की राजनीती का चाणक्य भी कहा जाता है,लेकिन अब लड़ रहे है राजनितिक वर्चस्व को बचाने की लड़ाई

बीते तीन दशक में बात चाहे राज्य की हो या केंद्र की शरद पवार महाराष्ट्र का बड़ा सियासी चेहरा रहे. लेकिन 5 साल पहले शरद पवार के हाथ से सत्ता निकलते ही उनके अपने ही साथ छोड़कर जा चुके हैं. 2019 के विधानसभा चुनाव में 78 साल के शरद पवार अपनी पार्टी एनसीपी को बचाने के लिए चुनावी मैदान में हैं. पार्टी बचाने की लड़ाई में शरद पवार के साथ सिर्फ उनकी बेटी सुप्रिया सुले बची हैं, क्योंकि महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री और उनके भतीजे अजीत पवार ने भी राजनीति से संन्यास ले लिया है.

27 साल में राजनितिक पारी की शुरुआत, 38 साल में बने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री

50 साल से महाराष्ट्र की राजनीति में एक्टिव शरद पवार का जन्म साल 1940 में हुआ था. 27 साल की उम्र में शरद पवार ने बारामती से अपना पहला चुनाव लड़ा और महाराष्ट्र विधानसभा पहुंचे. 1978 में शरद पवार जनता पार्टी के सहयोग के साथ 38 साल की पहली बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने. हालांकि 1980 में शरद पवार की सरकार को इंदिरा गांधी ने बर्खास्त कर दिया था. 1984 में शरद पवार पहली बार लोकसभा चुनाव जीतने में कामयाब हुए. लेकिन 1985 में शरद पवार ने राज्य की राजनीति में ही बने रहने का फैसला किया और उनकी पार्टी कांग्रेस सोशलिस्ट को 288 में से 54 सीटों पर जीत मिली. शरद पवार महाराष्ट्र विधानसभा में नेता विपक्ष चुने गए.

क्या महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में दिखेगा शरद यादव का दम ?

1987 में शरद पवार ने दोबारा कांग्रेस में वापसी का फैसला किया. राज्य में शिवसेना के उभार की वजह से कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ रहीं थी और शरद पवार के आने से कांग्रेस फिर से मजबूत हुई. 1988 में राजीव गांधी ने शरद पवार को महाराष्ट्र का सीएम बनाने का फैसला किया. 1990 के चुनाव में शरद पवार सत्ता में बने रहने में कामयाब रहे.

सोनिया गाँधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने का किया था विरोध

1999 में सोनिया गांधी को अध्यक्ष बनाए जाने का विरोध करते हुए शरद पवार ने पी ए संगमा और तारिक अनवर के साथ मिलकर नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी का गठन किया. लेकिन 1999 के विधानसभा चुनाव के बाद शरद पवार की पार्टी ने कांग्रेस का साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाई. 2004 का लोकसभा चुनाव भी शरद पवार ने कांग्रेस के साथ मिलकर लड़ा था और उन्हें यूपीए वन में कृषि मंत्री बनाया गया. 2004 के विधानसभा चुनाव में एनसीपी-कांग्रेस सत्ता में वापसी करने में कामयाब रहे.

2009 के लोकसभा और विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस एनसीपी का गठबंधन जारी रहा और केंद्र के साथ राज्य में भी सत्ता में वापसी हुई. 2014 के लोकसभा चुनाव में एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन को करारी हार का सामना करना पड़ा. एनसीपी के महाराष्ट्र से 4 और कांग्रेस के सिर्फ दो सांसद ही राज्य से लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज कर पाए. 2014 के विधानसभा चुनाव में एनसीपी-कांग्रेस में सीटों पर सहमति ना बनने के चलते गठबंधन टूट गया. दोनों पार्टियों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा और 41 सीटों पर जीत दर्ज करने वाली एनसीपी राज्य में चौथे नंबर की पार्टी बन गई.
हालांकि 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और एनसीपी ने एक बार फिर से गठबंधन किया, लेकिन इस बार भी दोनों पार्टियों के सिर्फ 5 सांसद ही राज्य से लोकसभा में पहुंचे हैं. 2019 का विधानसभा चुनाव भी कांग्रेस और एनसीपी मिलकर लड़ रहे हैं !

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

तिहाड़ में मर्डरर और रेपिस्ट जैसे लोग थे, जो मुझे काफी गालियां दिया करते थे : एस श्रीसंत

घुसपैठियों को रहने नहीं देंगे, उन्हें चुन-चुनकर बाहर करेंगे : अमित शाह