in , , , ,

विक्रम लैंडर की चांद पर हार्ड लैंडिंग हुई,नासा ने जारी की हाई रिजॉल्यूशन वाली तस्वीरें

न्यूयॉर्क. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने शुक्रवार को चंद्रयान-2 पर अपनी रिपोर्ट पेश की। इसमें कहा गया है कि चांद की सतह पर विक्रम लैंडर की हार्ड लैंडिंग हुई। एजेंसी ने उस जगह की कुछ तस्वीरें भी जारी कीं, जहां विक्रम की लैंडिंग होनी थी। हालांकि, विक्रम कहां गिरा इस बारे में पता नहीं चला पाया है। नासा वैज्ञानिकों के मुताबिक, चांद पर रात हो चुकी है, इसके चलते ज्यादातर सतह पर सिर्फ परछाइयां ही दिखाई दे रही हैं। ऐसे में हो सकता है कि लैंडर किसी परछाई में छिप गया हो।
नासा अक्टूबर में दक्षिणी ध्रुव से अंधेरा छंटने के बाद एक बार फिर अपने लूनर रिकॉनेसा ऑर्बिटर (एलआरओ) के कैमरे से विक्रम की लोकेशन जानने और उसकी तस्वीर लेने की कोशिश करेगा। पहले भी एजेंसी ऐसी कोशिशें कर चुकी है, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली।

  • 7 सितंबर को चांद की सतह छूने से सिर्फ 2.1 किमी पहले लैंडर विक्रम का इसरो से संपर्क टूट गया था !
  • 9 सितंबर को इसरो ने दावा किया था- लैंडिंग के दौरान विक्रम गिरकर तिरछा हो गया है, लेकिन टूटा नहीं !
  • नासा दक्षिणी ध्रुव से अंधेरा छंटने के बाद अपने ऑर्बिटर से विक्रम की लोकेशन जानने की कोशिश करेगा !
नासा ने जारी की हाई रिजॉल्यूशन वाली तस्वीरें

अमेरिकी स्पेस एजेंसी के अनुसार, विक्रम की चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग 7 सितंबर को होनी थी लेकिन अंतिम वक्त में इसका इसरो से संपर्क टूट गया। दक्षिणी ध्रूव से 600 किमी दूर लोकेट की गई यह जगह संभवतः एक प्राचिन टैरेन है। LROC 17 सितंबर को इस जगह के ऊपर से गुजरा था और इस जगह की हाई रिजॉल्यूशन तस्वीरें ली थीं। हालांकि, नासा की टीम अब तक इसमें लैंडर को नहीं देख पाई है।

लैंडर न मिलने के बाद नासा ने बढ़ाया था इसरो का हौसला

इससे पहले नासा ने चंद्रयान-2 को लेकर ट्वीट किया था। उसने लिखा, “अंतरिक्ष कठिन है। हम इसरो के चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-2 को उतारने के प्रयास की सराहना करते हैं। आपने हमें प्रेरित किया है और भविष्य में हम सौर मंडल का पता लगाने के लिए साथ काम करेंगे।”

लैंडर से संपर्क नहीं हुआ, लेकिन ऑर्बिटर बेहतरीन काम कर रहा है: इसरो

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के चेयरमैन के. सिवन का कहना है कि चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर बहुत अच्छे से काम कर रहा है, हालांकि लैंडर ‘विक्रम’ के साथ किसी तरह का संपर्क स्थापित नहीं हो सका है। उन्होंने ये भी बताया कि लैंडर के साथ हुई गड़बड़ी का पता लगाने के लिए राष्ट्रीय स्तर की एक समिति विश्लेषण कर रही है। जिसकी रिपोर्ट मिलने के बाद ही अंतरिक्ष एजेंसी अपने आगे की योजना पर काम शुरू करेगी।

Written by Ojas Nihale

एक लेखक अपनी कलम तभी उठाता हैं, जब उसकी संवेदनाओ पर चोट हुई हों !! पत्रकारिता में स्नातकोत्तर...
कभी सही कभी गलत, जैसा आपका नजरिया !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

महिला थाना प्रभारी ने बुजुर्ग महिला को खिलाया खाना, तो वृद्ध महिला हुई भावुक दिया आशीर्वाद

उम्र 70 साल, सिंधु से शादी के लिए कलेक्टर को दी याचिका